Menu
Your Cart

Sanskrit Books

कविकुल गुरू महाकवि कालिदास की गणना भारत के ही नहीं बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ साहित्यकारों में की जाती हैं। उन्हें भारत का शेक्सपियर कहा जाता है। जिस कृति के कारण कालिदास को सर्वाधिक प्रसिद्धि मिली वह है उनका नाटक ‘अभिज्ञानशाकुन्तलम्’ जिसका विश्व की अनेक भाषाओं में अनुवाद हो चुका है। यह ग्रन्थरत्न भ..
₹ 162.00 ₹ 180.00
Ex Tax:₹ 162.00
संस्कृत साहित्य में महाकवि दण्डी का विशिष्ट स्थान है। 'दशकुमास्वन्ति' उनकी लोकप्रिय व प्रसिद्ध रचना है। इसमें दस कुमारों के माध्यम से उस समय के समाज के सभी क्यों-राजमहलों से लेकर आम जनजीवन तक का रोचक्तापूर्ण विस्तृत वर्णन है। 'दशकुमास्वजि' में यथार्थवाद अपनी अभिव्यक्ति में बहुत ही निर्मम बनकर उतरा ह..
₹ 112.50 ₹ 125.00
Ex Tax:₹ 112.50
हितोपदेश का अर्थ है हितोपकारी उपदेश। नारायण पंडित द्वारारचित हितोपदेश की कहानियां सदाचार, राजनीती और व्यावहारिक ज्ञान से सरोबार है। पशु-पक्षियों के जीवन पर आधारित ये कहानियां स्वाभाविक लगती है क्योंकि इनमें पशु-पक्षी मनुष्यों की तरह ही बोलते है और उन्ही के सामान आचरण भी करते है। ये रोचक कहानियां हर ..
₹ 90.00 ₹ 100.00
Ex Tax:₹ 90.00
Showing 1 to 12 of 50 (5 Pages)